रविवार, 6 नवंबर 2011






केला स्वस्थ्य कर रहा है या फिर बना रहा है रोगी ?
केले को हम सभी बड़े चाव के साथ खाते है पर इसके पकने के तरीके को देख कर शायद आपो भी अब केला खाने से खौफ खाने लगेंगे. मेने एक केले के थोक व्यापारी के जो कुछ देखा विश्वाश नहीं हो रहा था. पोधो को बढ़ने के लिए इस्तेमाल होने वाली इथेफोंन हेतोंन का प्रयोग केले को पकाने में प्रयोग हो रहा है. इस पर साफ लिखा है यह एक जहर है और बच्चो से इसे दूर रखे. हम केले को बिना धोये ही छिलते है और खाते है.और वह जहर थोड़ी थोड़ी मात्र में हमारे शारीर में जाता रहता है जो हमारी दीमाग की नशोको प्रभावित करता है तथा दिमाग की खतरनाक बिमारिय हमें दे जाता है. इससे बचने का एक ही तरीका है की केले या इस तरह से पकने वाले केले को बाल्टी के पाने खूब धोकर ही खाए.
दीपक शर्मा

1 टिप्पणी:

  1. जनता की सेहत से खुले आम खिलवाड करना कुछ लोगो आदत बन चुकी है ये सब चल रहा प्रशासन की मिलीभगत से..लोगो की जाने जा रही लेकिन प्रशासन फिर भी सबक नही ले रहा पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मिलावट का जाल पूरी तरह से फैला हुआ है..
    प्रमोद कुमार फोकस टीवी नोएडा

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...